Thursday, 26 July 2018

अदरक या सौंठ (Ginger) के गुण, फायदे एवं महत्व (Benefit of Ginger)

लेख में अदरक के फायदे एवम् महत्व (adrak ke fayde evam mahtva) का वर्णन किया गया है । अदरक भारत में लगभग सभी जगह पाया जाता है । हमारे अनेक ग्रथों में भी  इसका वर्णन मिलता है। ये अग्निदीप्ति कर पाचन को बढ़ता है । अदरक के फायदे ( adrak ke fayde) से सभी लोग परिचित हैं, भूमि के अंदर पाया जाने वाला कन्द है, जब ये गीली अवस्था मे होता है तो इसे अदरक कहते हैं, व जब सुखी अवस्था मे होता है तो इसे सौंठ कहते है । इसके बारे मे सभी लोग जानते  हैं, इसका पौधा 1 से 1.5 फिट तक  ऊंचा होता है व इसके पत्ते  बाँस से मिलते जुलते होते है । यह कफ तथा वात नाशक होता  है । सर्दी  है व नाड़ियो में उत्तेजना व शक्ति प्रदान करता है ।         


अदरक गर्म होने के कारण वात, पित, व कफ में फायदा करता है । यह सर्दी को दूर करता है । यह दर्द को हरने वाला होता है । यह हृदय व रक्त संचार को उत्तेजित करता है । यह रक्त शोधक, श्वास और कफ को हरने वाला है । सौंठ आम पाचक होने के कारण  आम  का पाचन कर आम से पैदा होने वाले विकारो को दूर करता है । इसके अलावा अदरक के फायदे ( benefit of ginger) बहुत से हैं ।
                          

                           


अदरक
Adrak


अदरक में प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट्स, खनिज, केल्शियम, फास्फोरस, लोहा, आदि होता है । और थोड़ी मात्रा में आयोडीन व क्लोरीन भी पाया जाता  है । इसमे विटामिन A, B, व C भी पाये जाते हैं । अदरक अलग अलग एरिया मे अलग-अलग नामो से जाना जाता है । इंग्लिश मे इसे Ginger, गुजराती में आदु, बंगाली में आदा, मराठी में आलें, संस्कृत में आद्रशाक, तेलगु में सल्लम, कन्नड़ मे शुंठी व फारसी मे शंगवीर कहते हैं ।

यह भी पढ़े: मूली के आश्चर्यजनक फायदे व लीवर में उपयोग



अनेक रोगों के उपचार में अदरक के फायदे (benefit of ginger):



1.वात रोग में अदरक के फायदे (Adrak ke fayde):



वात रोग दूर करने के लिए सौंठ व जावित्री चूर्ण का आधा -आधा चम्मच व ग्वारपाठा के गुदे की 10 ग्राम मात्रा के साथ मिला कर देना चाहिए । यह फार्मूला डेढ़ से दो महीनों तक देंना है ।


2.आम के पाचन में अदरक खाने के फायदे ( adrak khane ke fayde)  :



सौंठ, अतीस व नगर मौथा, इन तीनो को मिला कर क्वाथ मिलाकर पीने से आम का पाचन होता है । आम पाचन मे अदरक से बहुत फायदा मिलता है ।अथवा सौंठ, अतीस, नागरमौथा तीनो को मिलाकर बनाया क्वाथ आम का पाचन करता है ।




3. नजला में अदरक का महत्व (Adrak ka mahatwa):




अदरक को घिस कर उसका दो चम्मच रस निकाल कर उसमें थोड़ा शहद मिलाकर चटाने से नजला जुकाम की तीव्रता कम हो जाती है । सिर दर्द व खाँसी में भी फायदा मिलता है ।



अदरक
अदरक


4. दमा में अदरक के फायदे (benefit of ginger in hindi) :




पिपली व सेंधा नामक मिला कर चूर्ण बना लें । इस चूर्ण को अदरक के रस के साथ मिलाकर रात को सोते समय सेवन करा देने से 6 से 7 दिन मे श्वास रोग अथवा दमा में फायदा होता है।


5. मंदाग्नि में अदरक के फायदे (Benefit of ginger in hindi):




अदरक पेट की अग्नि को बढ़ता है । इसके लिए सौंठ, अजवायन, सेंधा नामक, हरड़ को समान मात्रा मे इकठ्ठा कर चूर्ण बना लें । इस चूर्ण की एक चम्मच मात्रा रोगी को देने से पेट की  मंद अग्नि ठीक हो जाती है । व दर्द मे भी आराम मिलता है व अरुचि मिटती है ।


6. पाचन में अदरक के फायदे (adrak ke fayde) :




पाचन में अदरक के फायदे बहुत है । अदरक का आचार बना कर खाने से भूख बढ़ जाती है । हर दिन भोजन करने से पूर्व  नमक व अदरक की चटनी खाने से गला साफ होता है व अग्नि प्रदीप्त हो कर भूख बढ़ जाती  है । सौंठ का चूर्ण गुन गुने पानी के साथ अथवा सौंठ का चूर्ण धृत के साथ सुबह  के समय प्रतिदिन सेवन करने से भूख खुल कर लगती है ।


7. दर्द में अदरक के फायदे (benefit of ginger in hindi) :




अदरक अनेक प्रकार के दर्द मे राहत देता है । दर्द सिर में हो या दांत मे अदरक का रस पीने से फायदा होता है , यहां तक कि अगर माइग्रेन का दर्द हो तो इसमे भी आराम पहुचता है । दर्द में  अदरक का महत्व है । जो लोग अदरक का निरंतर सेवन करते रहते है । उन्हें हड्डियों व जोड़ों की दर्द की समस्या नही रहती ।


8. सूजन में अदरक के फायदे (adrak ke fayde in hindi):




अदरक में सूजन को काम करने का गुण होता है, यह उन लोगों के लिए फायदेमन्द है जो लोग सूजन व जोड़ो के दर्द से परेशान रहते  है । अदरक के स्वरस में 10 से 20 ग्राम गुड़ सुबह के समय लेने से सभी प्रकार की सूजन ठीक हो जाती है  । 


यह भी जाने : बकायन के 9 उपयोग,लाभ, और हानियां ( 9 uses, benefit, and side effects of bakayan in hindi)



9. रक्तचाप में अदरक खाने के फायदे (adrak khane ke fayde ) :




अदरक में खून को पतला करने का गुण पाया जाता है, इससे रक्त प्रवाह ठीक होता है व blood pressure नियंत्रण मे रहता है। इससे रक्त का थक्का नही जमता जिससे हार्ट अटैक का खतरा काम हो जाता है । इस लिए रक्तचाप में अदरक खाने के फायदे होते हैं ।




Adrak
Adrak



अदरक के नुकसान ( adrak ke nuksan)



अदरक के फायदे के अलावा अदरक के नुक़सन  भी बहुत से हैं । अदरक का उपयोग निरंतर व उचित मात्रा में करते रहें तो स्किन संबंधी रोगों से बचा जा सकता है, अदरक वात, पित, कफ, को नियंत्रित करती है । जिसके कारण शरीर बीमारियो से बचा रहता है । अदरक एक एंटी ऑक्सीडेंट होता है, इसका सेवन करते रहना चाहिए । अदरक का बहुत अधिक मात्रा मे इस्तेमाल नही करना चहिये, क्यों कि इसकी तासीर गर्म होती है, इसकी अधिक मात्रा मे इस्तेमाल करने से एसिडिटी हो जाती है । इसमे एक ऐसा तत्व होता है  जिस कारण ज्यादा मात्रा में प्रयोग करने से हड्डियो में कमजोरी हो जाती है जबकि उचित मात्रा मे लेने से लाभ होता है । अदरक के फायदे (benefit of ginger in hindi) देखते हुए अदरक के महत्व को समझा जा सकता है ।

  


  ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


No comments:

Post a Comment