Saturday, 18 August 2018

अमरूद व अमरूद के पत्ते से पेट व अनेक रोगों का इलाज

अमरूद (Guava) व अमरूद के पत्ते से पेट व अनेक रोगों का इलाज


वैसे तो अमरूद के बारे मे सभी लोग जानते हैं । अमरूद व अमरूद के पत्ते हमें अनेक रोगों से बचाते हैं । अमरूद के रंग के हिसाब से दो तरह का होता है, एक सफेद गुदे वाला दूसरा लाल गुदे वाला । इसकी  खेती तो होती ही है, लेकिन यह अपने आप भी उग जाता है । बरसात के अमरूद की उपेक्षा सर्दियों का अमरूद अधिक मीठा होता है।
इससे रोगों का इलाज तो किया ही जाता है साथ ही इसके पत्ते भी काम उपयोगी नही हैं । इस फल मे बहुत अधिक मात्रा मे पौशाक तत्व होते है । इसमें विटामिन 'C' प्रचुर मात्रा मे पाया जाता है । यह एक अच्छा
एंटीऑक्सीडेंटस है ।  इसमें  एंटीइंफ्लेमेटरी  व एंटीबैक्टेरियल गुण भी होते है



अमरूद
Amrood



इसकी की जड़ की छाल में टेनिकएसिड काफी मात्रा मे पाया जता है । अमरूद में कैल्शियम ऑक्जेलेट के रवे भी पाये जाते हैं । अमरूद के पेड़ में फास्फोरस व अम्ल सत्व के साथ मिले हुए चूना व मेगनीज होते हैं । इसके पत्तो में राल, टैनिन, उड़नशील तेल व खनिज लवण होते हैं । इसमे विटामिन B व C पाये जाते हैं। अमरूद का वैज्ञनिक नाम psidium guajawa L. है । इसे अंग्रेजी मे guava व हिन्दी मे अमरूद, सफरी तथा मराठी में पेरू, और तेलगु में गोइया कहते हैं ।


अमरूद के फायदे व गुण:



अमरूद का फल रुचिवर्धक, शुक्र वर्धक, हृदय को बाल देने वाला व वमन नाशक होता है । यह कफ निस्सारक होता है । इसके पत्तों से कैलेस्ट्रोल नियंत्रित होता है । इसके पत्तों से पेट दर्द मे आराम मिलता है । अमरूद के पत्ते से दाँत रोग, मुह के रोग, मानसिक विकार, तीव्र पेचिस, गठिया आदि रोगों का इलाज किया जाता है । इसी तरह अमरूद से  सिरदर्द, खाँसी, कफ, कब्ज आदि रोगों का इलाज किया जाता है ।


1. खाँसी और कफ में अमरूद के फायदे:



  • किसी को सुखी खाँसी हो कफ न निकलता हो तो सुभह के वक्त अमरूद को काटे बिना तोड़ कर धीरे धीरे चबा के खाने से खाँसी दो तीन दी मे ठीक हो जाती है ।
  • अमरूद के अर्क मे शहद मिला कर पीने से सूखी खाँसी मे लाभ होता है ।
  • जुकाम व साड़ी खाँसी हो तो आधे पके अमरूद को आग मे भूनकर उसमे नमक मिला कर खाने से काफी फायदा होता है ।
  • अगर खाँसी अधिक हो व बलगम ज्यादा निकलता हो, हल्का बुखार हो, पेट साफ ना होता हो तो ताजे मीठे अमरूदों को इच्छानुसार खाने से काफी लाभ होगा ।


2. कब्ज में फायदेमंद अमरूद:



  • सुभाह नाश्ते में अमरूद को काला नमक,अदरक व कालीमिर्च के साथ मिलाकर खाने से। गैस, अफारा, व कब्ज दूर हो जाती है तथा भूख खुलकर लगती है ।
  • अमरूद के पत्तों का सवरस निकाल कर, इस स्वारस की 10 ग्राम मात्रा मे शक्कर मिलाकर खाने से केवल एक बार मे ही अजीर्ण(बदहजमी)  ठीक हो जाता है , ख्याल रहे कि इसका सेवन सुबह के वक्त करना है ।


3. वमन (vometing) व अधिक प्यास में फायदा:




अमरूद के पत्तों का क्वाथ बनाकर पिलाने से वमन ठीक होता है l अमरूद के छोटे छोटे टुकड़े काट कर पानी मे डाल कर रख दें थोड़ी देर बाद इसके पानी को पीने से पानी की तृष्णा में लाभ मिलता है । फिर चाहे पानी पीने की बार बार इच्छा चाहे सुगर रोग के कारण हो  या फिर बहुमूत्र का रोग हो ।


4. जुकाम मे अमरूद का प्रयोग:




पुराने जुकाम के रोगी को एक बढ़िया स बड़ा अमरूद बीज अलग करके खिलाने से व ऊपर से एक गिलास पानी नाक बंद कर पिलाने से दो से चार दिन मे रुक हुआ बलगम बाहर हो जायगा । दो तीन दिन बाद अगर जुकाम का बहन रोकना हो तो रात में 50 ग्राम गुड़ बिना पानी पिये खिलादें ।


5. सिरदर्द में आराम दिलाता है :




सुबह सूर्य निकलने से पूर्व कच्चे अमरूद को पत्तथर घिस कर सिर पर जहां दर्द हो वहां लगाने से सिर दर्द नही उठता है, अगर दर्द पहले से हो तो दर्द शांत हो जाता है । यह प्रयोग दिन मे तीन से चार बार करना चाहिए ।


6. पेचिस मे  अमरूद का उपयोग:



  • कच्चे फल को उबाल कर खिलाने से अतिसार यानि पेचिस मे आराम मिल जाता है ।
  • बच्चों को पुरानी पेचिस हो तो अमरूद के जड़ की 15 ग्राम मात्रा को 150 ग्राम पानी मे उबालकर, जब पानी आधा रह जाये तो 5 से 6 ग्राम दिन मे दो तीन बार पिलाना चाहिए ।
  • इसके कोमल पत्ते व इसकी छाल का क्वाथ बनाकर पिलाने से हैजे के शुरू की अवस्था मे लाभ मिलता है  


अमरूद का पेड़
Amrood ka ped



7. मुहांसो मे लाभदायक है अमरूद:




अमरूद के पत्ते में entiseftic गुण होने के कारण अमरूद की पत्तियाँ मुहासों में असरकरक होती हैं । अमरूद के पत्तों को पीस कर मुहांसो पर लगाने से मुहांसे खत्म हो जाते हैं ।


8. अमरूद दाँत व मसूड़ों में उपयोगी:




इसके पत्तो में दांत व मसूड़ो के दर्द मे काफी असर कारक है । इसके लिए अमरूद के पत्तों को पीस कर पेस्ट बनाकर दांतों व मसूड़ों पर लगाने से दर्द मे आराम मिल जाता है । तीन  से चार पत्तों को चबाने से दाँतदर्द मे आराम मिलता है ।


9. एलर्जी दूर करता है अमरूद:




अमरूद के पत्ते के रस में एलर्जी दूर करने का गुण होता है । इसके रस को स्किन पर लगाने से एलर्जी वाले कीटाणु मर जाते है । और अगर खुजली हो तो यह समस्या भी दूर हो जाती है ।






10. अमरूद का अन्य रोगों मे उपयोग:



  • डेंगू के फीवर मे इसके पत्तों का रस पीने से डेंगू में आराम मिलता है । रोग प्रतिरोधक छमता बढ़ जाती है  व प्लेट्सलेट्स काउंट्स भी बड़ जाते है । व कमजोरी दूर हो जाती है
  • अमरूद के पत्ते का रस पीने से कलेस्ट्रॉल नियंत्रित होता है व लिवर को मजबूती मिलती है ।
  • अमरूद मे ऐसा गुण होता है कि यह स्टार्च को सुगर मे बदलने नही देता जिस कारण सुगर कंट्रोल रहती है ।
  • मुह के छालों को ठीक करने के लिए अमरूद के पत्ते मे थोड़ा कत्था लगाकर पान की तरह खाना होता है ।
  • गठिया के रोगी को इसके पत्तो को पीस कर दर्द वाले स्थान पर लगाने से गठिया मे आराम मिलता है


विशेष:



अमरूद एक अच्छा फल है इसके खाने से कोई भयंकर नुकसान नही होते है । इसका प्रयोग सभी को करना चाहिए । अमरूद के बीजों को निकाल कर पीस कर इसमें गुलाब जल या मिश्री मिलाकर खाने से पेट को ठण्डक मिलती है । पित शांत हो जाता है । इसके पत्तों के स्वरस को पेटभर पीने से या या अमरूद खाने से भांग, धतूरा आदि का नशा दूर हो जाता है । इसके कोमल पत्तो को पीस कर खिलाने से बुखार के साइड इफेक्ट काम हो जाते हैं ।


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

No comments:

Post a Comment