इलायची के 6 फायदे एवम् उपयोग (Elaichi ke fayde in hindi) - Godesihealth

अक्तूबर 11, 2018

इलायची के 6 फायदे एवम् उपयोग (Elaichi ke fayde in hindi)

elaichi ke fayde
elaichi




इलायची के फायदे एवम् उपयोग (elaichi ke fayde in hindi)



इलायची के फायदे का वर्णन इस लेख में करने जा रहे हैं । काली इलायची से शायद ही कोई अपरिचित हो, इसकी सुगंध से भारतीय पाक शास्त्र में पूरी तरह रची बड़ी हुई है । इसका प्रयोग मसाले से लेकर मिठाई तक में किया जाता है । इलायची दो तरह की होती हैं, एक छोटी इलायची अथवा सफेद इलायची के नाम व बड़ी इलायची अथवा कली इलायची के नाम से जानते हैं, दोनों ही इलायची का प्रयोग औषधियों में किया जाता है।




इलायची का पौधा 3 से 4 फिट ऊंचा होता है, इसके पत्ते 1 से 2 फिट लंबे व 3 से 4 इंच चौड़े होते हैं व दोनों और से चिकने होते हैं । इलायची के बीज में एक खुशबू दर तेल पाया जाता है, जिसमें सिनियोल की काफी मात्रा पाई जाती है । इलायची को इंग्लिश में  cardamom कहते हैं। इसे ब्रहदेला, बहुला, भद्रेला, एलचा, बड़ा एलाच, इलायची, एलकिक काकुले आदि नामों से जाना जाता है ।



इलायची के गुण एवं फायदे (elaychi ke gun evam Fayde):



  • इलायची कफ व वात शामक होती है ।


  • इलाईची हृदय को उत्तेजित करती है ।


  • इलायची दुर्गंधनशक व वमन हर होती है।


  • यह पके मुंह में फायदा करती है ।


  • दांत दर्द में आराम दिलाती है ।


  • मूत्र रुकावट को दूर करती है ।


इलायची के घरेलू उपयोग (Elaychi ke Gharelu Upyog):




1. दांत दर्द में इलायची के फायदे ( elaychi ke Fayde):




  • इलायची व लोंग का तेल बराबर मात्रा में लेकर दांतों पर मलने से दांत दर्द में लाभ मिलता है ।



  • 4 से 5 इलायची को 400 मिली पानी में उबालकर, क्वाथ बनाने के बाद कुल्ला करने से दांत दर्द में फायदा होता है ।


2. मूत्र विकारों में  इलाइची खाने के फायदे (elaychi khane ke Fayde):




  • इलायची के बीज का चूर्ण व बराबर मात्रा में बूरा मिलाकर इसकी 2 से 3 ग्राम मात्रा को सुबह शाम सेवन करने से मूत्र की रुकावट में लाभ होता है व पेशाब खुलकर होने लगता है ।



  • बड़ी इलायची के दस नग छिलका सहित कूट कर इसे 250 ग्राम दूध व 250 ग्राम पानी में उबालें जब 250 ग्राम शेष रह जाए तो इसे छान कर थोड़ी मिश्री मिलाकर  दीं में चार बार सेवन करने से मूत्र की रुकावट व जलन दूर होती है ।






3. सिरदर्द में इलायची के फायदे (elaichi ke fayde):




  • इलायची को पीस कर इसका pest बनाकर माथे पर लेप करने से  अथवा इसके बीजों को पीस कर सूंघने से सिर दर्द में लाभ मिलता है । पेट की मंदाग्नि को तीव्र करता है ।



  • इलायची बीज का चूर्ण व भ्रमर मात्रा में सौंठ का चूर्ण को मिलाकर फंकी लेने से मंदाग्नि में फायदा होता है ।



  • इलायची के बीज 8 से10 व 2 ग्राम सौफ को मिलाकर सेवन करने से मंदाग्नि तीव्र होती है व पाचन में मजबूती मिलती है ।



  • केला अधिक कने से अपच हो गई हो तो इलायची खाने से हाजमा तीक हो जाता है ।



4. मुंह से लार का बहना:



मुंह से लार बहता हो या अधिक थूक आती हो तो इलायची व सुपारी को बराबर मात्रा में पीस लें, इसकी 1 से 2 ग्राम मात्रा चाटते रहने से इस कष्ट से राहत मिल जाती है ।



5. इलायची के दमा में फायदे (elaichi ke fayde in hindi) :




  • सांस की बीमारी में इलायची का तेल 10 बूंद को मिश्री में मिला कर सेवन करने से दमा व सांस के रोग में लाभ मिलता है



6.लिवर में फायदा करती है इलायची (elaichi ke fayde):




  • लिवर का आकार बड गया हो तो इलायची के 1 से 2 ग्राम चूर्ण का नियमित सेवन करने से ही लाभ होता है ।



  • इलायची का चूर्ण 2 से 3 ग्राम व इतनी ही पिसी हुई राई को मिलाकर लगातार सेवन करने से लिवर के विकारों में लाभ मिलता है ।




6.ज्वर में इलायची का उपयोग (Elaichi ke Upyog):




  • किसी भी प्रकार के ज्वर में  इलायची के बीज 2 भाग व बेल के पेड़ की जड़ की छाल एक भाग को कूट कर चूर्ण बना ले ।



  • इस चूर्ण को दूध व बराबर मात्रा के पानी में उबालें, जब दूध की मात्रा के बराबर शेष रह जाए तो इसकी 20 मिली मात्रा सुबह दोपहर, शाम सेवन करने से आराम मिलता है ।



विशेष:




इलायची काफी गुणकारी होती है । इलायची के  फायदे - elaichi ke fayde in hindi एवंम् उपयोग अनेक हैं । ऊपर बताए प्रयोगों के अलावा इलायची हिचकी, अतिसार, वमन अफ़ारा,पथरी, सूजन, आदि रोगों में उपयोगी है । आशा करता हूं कि आप को लेख अवश्य पसंद आया होगा । 
                 
 धन्यवाद ।


  =========================