expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Thursday, 22 November 2018

तेजपत्ता के 7 खास फायदे व उपयोग ( bayleaf in Hindi)

Tejpatta tree
Tejpatta plant

तेजपत्ता के उपयोग ( Tejpatta ke upyog)


तेजपत्ता (bayleaf)  के पेड़ पहाड़ के जंगलों में पाए जाते  हैं। तमाल पत्र के पेड़ के पत्ते सूखा कर तेजपात के नाम से बेचे जाते हैं । tejpatta की पत्तियों का रंग हरा होता है, जो सुख कर धूसर हो जाता है । इसमें एक मनोरम गंध पाई जाती है । तेजपत्ता का उपयोग मसाले के रूप में तो किया ही जाता है साथ ही यह बहुत से रोगों के काम आता है । तेजपत्ते का प्रयोग ज्यादातर भारतीय पकवानों में किया जाता है, तेजपत्ता को इंग्लिश में Indian cinnamon तथा bayleaf के नाम से जाना जाता है, तेजपत्ता को भाषाओं के अनुसार तमालपत्र, tejpaat, तेजपत्ता, लमालपत्र, आदि नामों से जाना जाता है ।

मसाले के तौर पर इस्तेमाल होने वाली तेजपत्ता की पत्त‍ियों में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं. तेजपत्ता की पत्तियों से तेल भी निकाला जाता है, तेजपत्ते में अच्छी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाया जाता है । इसके अलावा तेजपत्ते में कई तरह के प्रमुख लवण जैसे कॉपर, पोटैशियम, कैल्शियम, मैंगनीज, सेलेनियम और आयरन आदि पाया जाता है, तेजपात के पेड़ की छाल का प्रयोग दालचीनी के रूप में किजा जाता है, यह भी मसलों व अन्य कामों में प्रयोग की जाती है ।

यह भी पढ़े:- आँवले का उपयोग बुढ़ापा दूर रखने व जवानी बनाए रखने मे सहायक, use of aonla in hindi.


1. जुकाम, खांसी, सर्दी में तेजपत्ता के फायदे  (bayleaf in Hindi )



  • तेजपत्ता की छाल 5 ग्राम और छोटी पीपली 5 ग्राम लेकर दोनों को पीस ले, इसमें दो चम्मच शहद मिलाकर चाटने से खांसी व जुकाम ठीक होता है ।


  • छींक आती हो, सिरदर्द हो, नाक बहता हो तो चाय पत्ती की जगह तेजपत्ते की चाय पीने से आराम मिलता है, ताजपत्ते को सूंघना भी फायदेमंद होता है ।


  • तेज पात का चूर्ण एक चम्मच को एक कप दूध में डाल कर सेवन करने से खांसी में आराम मिलता है ।


2. आंख के रोग में तेजपत्ता के लाभ ( benefit of tejpatta )



तेजपत्ते को पीस कर आंख में लगने से आंख का जाला व धुंध मिटती है । नखुना रोग भी इसका प्रयोग करने से ठीक हो जाता है ।


3. सिरदर्द में तेजपत्ता के उपयोग ( uses of bayleaf )



100 ग्राम तेजपत्ते पानी के साथ पीस कर माथे पर लेप करने से सिरदर्द में आराम मिलता है । आराम मिलने के बाद लेप हटा ले, सिरदर्द गरमी में हो तथा सर्दी में दोनों ही प्रकार के दर्द में फायदा करता है ।



4. दांतों का मेल उतारने में उपयोगी तेजपत्ता (use of tejpatta in teeth)




  • तेजपत्ते का बारीक चूर्ण बनाकर सुबह शाम दांतों पर मंजन करने से दांतों में चमक आ जाती है ।


  • तेज पत्ते के डंठल से दांतों में दोनों टाइम दातुन करने से दांतों में खून आना रुक जाता है व दांत स्वस्थ हो जाते हैं ।


5. गर्भाशय शुद्धि में सहायक है तेजपत्ता




  • Tejpatta का 40 से 50 ग्राम काढ़ा प्रसूता को पिलाने से दूषित मल्ल व रक्त बाहर होकर गर्भाशय शुद्ध होता है ।


  • तेजपत्ता का 1 से 3 ग्राम चूर्ण का सुबह शाम सेवन करने से गाभश्ये शुद्ध हो जाता है ।


Read more:- बकायन के 9 उपयोग,लाभ, और हानियां ( 9 uses, benefit, and side effects of bakayan in hindi)



6. श्वास व दमा में तेजपत्ता के लाभ ( benefit of tejpatta)




  • तेजपत्ता चूर्ण की एक चम्मच मात्रा को एक कप गरम दूध के साथ सेवन करने से दमा तथा श्वास रोग में लाभ मिलता है ।


  • पीपल व तेजपत्ता की दो दो ग्राम मात्रा को कूट कर अदरक के मुरब्बे की चासनी में डाल कर चाटने से दमा व श्वास नली के साइड इफेक्ट खत्म हो जाते हैं ।


Tejpatta
तेजपत्ता के पत्ते



7. तेजपत्ता के अन्य प्रयोग (Tejpatta ke prayog)




1. तेजपत्ता के पत्ते को नियमित रूप से चूसने से हकलाहट में लाभ होता है ।

2. तेजपत्ता की छाल का चूर्ण बारीक कर फांकने से वायु गोला मिटता है ।

3. तेजपत्ता का काढ़ा पीने से पेट फूलने, दस्त लगना आंतों की खराबी आदि बीमारी  ठीक हो जाता है ।

4. तेजपत्ता के पत्ते का लेप बनाकर जोड़ो पर लगाने से संधि वात में लाभ मिलता है ।

5. तेज पत्ता के चूर्ण की फंकी लगने से उबकाई रुक जाती है।

6. तेजपत्ता का चूर्ण, एक कप पानी के साथ सेवन करने से शरीर में किसी भी तरह का हो रहा रक्तस्राव रुक जाता है ।

7. तेजपत्ता को नियमित रूप से कुछ दिन चबाने से पीलिया व पथरी की तीव्रता कम होकर आराम मिलजता है।

8. तेज पात का रायता बनाकर सुबह शाम खाने से अरुचि का रोग ठीक हो जाता है ।

9. तेजपत्ता का तेल, दर्द निवारक का भी कम करता है, इसको वेदना वाले स्थान पर लगाने से दर्द में राहत मिलती है ।

10. रात को बिस्तर पर जाने से  पहले तेजपत्ते का प्रयोग करना अच्छी नींद आने के लिए बहुत उपयोगी है. तेजपत्ते के तेल की दो तीन बूंदों को पानी में मिलाकर पीने से नींद बहुत अच्छी आती है ।


विशेष



इस लेख में तेजपत्ता के गुण व फायदों व तेजपत्ता के हानियों tej patta health benefit के बारे में वर्णन किया गया है। तेजपत्ता गुर्दे व गुर्दे की पथरी के लिए बहुत फायदेमंद है । इसके लिए तेजपत्ता को उबालकर इसका पानी ठंडा करके पीने से गुर्दे की पथरी व गुर्दे के रोग में फायदा होता है । इस लेख का मूल उद्देश्य जनमानस को आर्युवेद के प्रति जागरूक करना है, दवा के रूप में bayleaf प्रयोग इसके निश्चित अनुपात में ही करे । अधिक गंभीर रोग में तेजपत्ता उपयोग किसी वैद्य की सलाह पर ही करे । आशा करता हूं कि आपको यह लेख पसंद आया होगा ।





========================




No comments: