Sunday, 26 May 2019

अजमोद के गुण फायदे तथा उपयोग ( celery in hindi)

Ajmod plant
Ajmod ka paodha


अजमोद का पेड़ कैसा होता है (Ajmod ka ped kaisa hota he )


इस लेख में आपको अजमोद के गुण फायदे उपयोग एवम् देसी नुस्खों के बारे में बताने जा रहे हैं । अजमोद के पौधे अजवाइन की तरह के 1 से 3 फिट ऊंचे होते है, अजमोद के पत्ते के किनारे कटे होते है,  अजमोद के बीज अजवाइन से मिलते जुलते होते हैं । इसके फूल सफेद रंग के छोटे छोटे छत्री के आकार के होते हैं । भारत में लगभग सभी जगह पाया जाता है । इसकी खेती विशेष रूप से बंगाल में सर्दियों में शुरू हो जाती है । अजमोद में कपूर जैसा एक पदार्थ पाया जाता है । इसके अलावा इसमें गंधक, उदंशील तेल, लवण, छार, लुआब, व गोंद आदि पाए जाते हैं ।

अजमोद को अंग्रेजी में  Celery seeds  व संस्कृत में अजमोदा, मराठी में ओमादा, व पंजाबी में अजमुद तथा बंगाली में आजमूद के नाम से जाना जाता है ।

यह भी पढ़े:बालों का झड़ना एवम् गंजेपन से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे


अजमोद के घरेलू नुस्खे (Ajmoda ke ghrelu nuskhe):



1. पेट दर्द में अजमोद का फायदा (Ajmod ke fayde):



  • इसकी 3 ग्राम मात्रा व 1 ग्राम काला नमक मिलाकर इसकी फंकी देने से पेट दर्द में आराम मिलता है ।


  • इसके तेल की 2 से 3 बूंदे, एक ग्राम सौंठ के चूर्ण को गरम पानी के साथ सेवन करने से पेट दर्द में आराम मिलता है ।


Celery seed in hindi
Ajmoda


2. उल्टी में अजमोदा के उपयोग (Ulti me ajmoda ke upyog )


  • कुछ औषधियों का स्वाद अच्छा नहीं होता है, उन औषधियों के साथ 2 से 5 ग्राम ajmod का चूर्ण सेवन करने से वमन( उल्टी) कि संभावना नहीं रहती है ।


  • उल्टी हो रही हो तो 2 से 5 ग्राम अजमोद के चूर्ण व 2-3 लौंग की कली मिलाकर पीस कर एक चम्मच शहद के साथ सेवन करने से वमन रुक जाती है ।

3. अर्श में फायदा करता है अजमोदा (Ajmod me fayda krta he ajmod) : 



Ajmod को कपड़े में बांध कर गरम करके सिकाई करने से अर्श में फायदा होता है ।


4. मूत्र विकार में अजमोदा के लाभ (Ajmoda ke labh) : 


अजमोद की जड़ का 2 से 5 ग्राम चूर्ण  सुबह शाम लेने से मूत्र विकार में फायदा होता है ।


5. अफारा मेंअजमोद के उपयोग ( Afara men ajmod ke upyog)



इसके 3 से 5 ग्राम चूर्ण को 10 ग्राम गुड़ के साथ सेवन करने से अफ़ारे में लाभ मिलता है ।


यह भी जाने: पेट की गैस छुटकारा पाने के सरल आयुर्वेदिक घरेलू उपाय


6. हिचकी में फायदा (Ajmod ke fayde): 


अगर खाना खाने के बाद हिचकी आती हो तो इसके 10 से 15 दने मुंह में रखने से हिचकी रुक जाती  है ।


अजमोद के फूल
Ajmod ke phool


7. सूखी खांसी में उपयोग (ajmod ke upyog):  


Ajmod की थोड़ी सी मात्रा पान में डाल कर खाने से सूखी खांसी में लाभ होता है ।


8. श्वास में फायदा (Ajmod ke fayde): 


अजमोद श्वास में बहुत ही फायदे मंद है, यह उत्तेजक व बाल वर्धक होता है ।श्वास रोग में इसका उपयोग किया जाता है । इसकी 3 से 6 ग्राम मात्रा दिन में तीन बार सेवन करने से श्वास रोग में लाभ मिलता है ।


9. मस्तिष्क में अजमोदा के लाभ (Ajmod ke labh) : 


अजमोद मस्तिष्क व वातनाडियों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। अजमोद की जड़ की की कॉफी बनाकर पीने से लाभ होता है ।


अजमोद
अजमोद


10. बदन दर्द में लाभ (Ajmod ke labh): 



शरीर में दर्द व सूजन होने पर अजमोद की जड़ का क्वाथ दिन में दो तीन बार सेवन करने से फायदा होता है ।


यह भी जाने: गन्ने का रस पीने के फायदे, उपयोग व नुकसान


विशेष:



इस लेख में आप को अजमोद के औषधीय प्रयोग के बारे में बताया गया है, यह कुछ विशेष तरह के रोगियों को नुकसान भी कर सकता है, Ajmod खाने के बाद छाती में जलन पैदा करता है, इस लिए गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए । अप्समार के मरीजों का इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए । पूरे शरीर की पीड़ा के लिए बहुत उपयोगी होता है, अजमोद के तेल को उबालकर शरीर की मालिश करने से अत्यंत अधिक लाभ होता है । घरेलू नुस्खों से संबंधित और अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट  पर क्लिक करें ।




___________________________












No comments:

Post a Comment