Monday, 10 June 2019

अनानास खाने के 8 फायदे एवम् नुकसान ( Ananas khane ke 8 fayde evam Nuksan)

Pineapple, Ananas,
Ananas


अनानास के फायदे (Pine apple benefit in hindi):




लेख में अनानास के फायदे व नुकसान के बारे में वर्णन करने जा रहे हैं । अनानास लगभग पूरे भारतवर्ष में पाया जाता है । मूलतः यह ब्राजील का आदिवासी पौधा है । भारत में इसकी खेती आसाम, बंगाल व समुद्रतटीय प्रदेशों में अधिक मात्रा में की जाती है । अनानास 2 फिट ऊंचा शकीय पौधा होता है । पौधे के शीर्ष मध्य भाग में  फल निकलता है जिसके मूल में पत्तों का पुंज होता है । इसका फल पककर नारंगी पीले रंग की हो जाता है । अनानास का पेड़ केवड़े या एलोवेरा से जैसे दिखते हैं । अनानास के पौधे के बीचोबीच एक छोटा कांड निकलता है, जो चारो तरफ से पत्तों के गुच्छों से ढका होता है । अनानास में ब्रोमोलिन्न नामक एक तत्व पाया जाता है जो हाजमे को मजबूत करता है । अनानास के फल के रस में अम्ल, शर्करा, विटामिन्स A तथा C पाए जाते हैं । इसमें दूध को जमाने वाला एक तत्व भी पाया जाता है ।

अनानास का वैज्ञानिक नाम Ananas comosus है, इसे इंग्लिश में pineapple कहते हैं । व हिंदी में अनानास एवम् संस्कृत में बहुनेत्र के नाम से जाना जाता है ।


Ananas ka ped, Ananas ka Paudha, Ananas ke patte
Ananas ka ped



अनानास के औषधीय गुण (Ananas ke aushdhiye gun):



अनानास के कच्चे फल के स्वरस में गर्भाशय उत्तेजक, व गर्भपात तत्व पाया जाता है । यह वात पित्त शामक, रेचन, अनमोल, दीपन, मुत्रल, रक्तपित्त शामक होता है ।

Read more:  बेल के उपयोग, फायदे एवम् औेषधीय गुण( bael ke upyog,fayde,)


1. मधुमेह में अनानास के जूस के फायदे ( Ananas ke juice ke fayde):



अनानास मधुमेह के लिए बहुत ही उपयोगी होता है । अनानास के सौ ग्राम रस में 10-10  ग्राम हरड़, बहेड़ा, आमला, तिल, गोखरू, तथा जामुन के बीज मिलाकर, सुखाकर इसके चूर्ण बना लें, इस चूर्ण की 3 ग्राम मात्रा सुबह शाम सेवन करने से मधुमेह व बहुमुत्र के रोगी को लाभ होता है, इसमें दूध चावल खाना फायदेमंद होता है, व नमक, खटाई, व लालमिर्च से परहेज़ करना है ।


2. पेट रोग में अनानास के जूस के फायदे (Ananas ke juce ke fayde):



  • अनानास के रस में इसकी आधी मात्रा में गुड़ मिलाकर सेवन करने से उदर में उपस्थित वात नश्ट हो जाता है, अगर पेट में बाल चला जाए तो अनानास का रस पीने से बाल गलकर शरीर से बाहर निकाल जाता है ।


  • परिपक्व अनानास के दस ग्राम रस में 125 मिली हिंग तथा सेंधा नमक 250 मिली, अदरक का रस 250 मिली, मिलाकर सुबह शाम सेवन करने से पेट दर्द व गुल्म रोग में फायदा होता है ।


अनानास
अनानास



3. श्वास रोग में अनानास जूस के  फायदे ( pineapple juice fayde hindi):




  • अनानास के दस ग्राम पके हुए फल के  रस में पीपल की जड़, सौंठ व बहेडे का चूर्ण दो - दो ग्राम  तथा सुहागा भुना हुआ व शहद  मिलाकर उपयोग करने से श्वास रोग में जबरदस्त लाभ होता है ।

  • अनानास के जूस में बहेड़ा, मुलेठी व मिश्री मिलाकर सेवन करने से श्वास रोग में फायदा होता है ।

  • अनानास के फल के जूस में छोटी कटोरी की जड़, जीराआंवला की बराबर मात्रा का चूर्ण शहद के साथ सेवन करने से श्वास रोग में लाभ होता है ।


Read more:  जीवन में स्वास्थ रहने के उपयोगी सूत्र ( Health tips in hindi)


4. अजीर्ण( बदहजमी) में अनानास (Ananas ke fayde):




  • अनानास के फल के छोटे टुकड़े कर के इसमें सेंधा नमक व कालीमिर्च मिलाकर सेवन करने से अजीर्ण में फायदा होता है ।


  • भोजन करने के बाद यदि पेट फूल जाय तो  अनानास के के 20 से 25 ग्राम रस का सेवन करने से गैस बाहर निकाल जाती है व आराम मिलता है ।


  • अनानास के पके फल के सौ ग्राम रस में 1 से 2 नग दाख एवम् 125 मिली सेंधा नामक मिलकर सेवन करने से बदहजमी दूर होता है ।



5. मासिक धर्म की रुकावट में अनानास के उपयोग (Ananas ke upyog):




  • अनानास के कच्चे फल के रस में पीपल की छाल का चूर्ण एक ग्राम व गुड़ एक ग्राम मिलकर सेवन करने से मसिकधर्म की रुकावट ठीक होती है ।


  • अनानास के पत्ते का काढ़ा 40 से 50 मिली पीने से भी रुकावट दूर हो जाती है ।


6. पीलिया में अनानास के लाभ  (Ananas ke labh):


अनानास के पके फल का 10 ग्राम रस में 2 ग्राम हल्दी व 3 ग्राम मिश्री मिलाकर रोगी को देने से कमला के रोग में फायदा होता है ।


अनानास, अनानास फल
अनानास( Pineapple )


7. पित्त में अनानास का फायदा  (Ananas ka fayda):



  • अनानास का मुरब्बा बनाकर खाने से पित्त रोग में लाभ मिलता है । अनानास का मुरब्बा बनाने के लिए  इसके छोटे छोटे टुकड़े कर चुने के पानी में एक दी रख कर सूखा लें, जब ये सूख जाए तो  इसमें शक्कर की चासनी डाल कर मुरब्बा बना लें ।


  • अनानास का शरबत भी पित रोग को शांत करता है । अनानास का शरबत बनाने के लिए एक बैग अनानास का रस व दो भाग चासनी मिलाकर तैयार किया जाता है । अनानास के शरबत से दिल को भी ब्ल मिलता है ।



8. कृमि रोग में अनानास के फायदे ( Ananas ke Fayde):



  • अनानास के पत्ते के रस में शहद मिलाकर इसकी 3 से 10 ग्राम मात्रा प्रतिदिन सेवन करने से कृमि नष्ट हो जाते हैं ।


  • अनानास के पके फल के रस में खुरासनी अजवाइन, छुआरा का चूर्ण मिलाकर थोड़े से शाद के साथ मिलाकर  लगभग 5 से 10 ग्राम की मात्रा चता देने से बच्चों का किमी रोग दूर हो जाता है ।


अनानास के नुकसान ( Ananas ke Nuksan):

अनानास का प्रयोग अत्यधिक नहीं करना चाहिए, इसकी अधिकता से कंठ में नुकसान पहुंचता है व गले में खराश हो जाती है । अनानास के साइड इफेक्ट को दूर करने के लिए चीनी, नींबू, व अदरक के रस का सेवन फायदा करता है ।

READ MORE 

_____________________________



No comments: