शरीर में प्लेटलेट्स बढ़ाने के 13 अचूक उपाय - plateslets badhane ke upay in hindi - Godesihealth

अगस्त 20, 2020

शरीर में प्लेटलेट्स बढ़ाने के 13 अचूक उपाय - plateslets badhane ke upay in hindi

किसी भी व्यक्ति को बुखार होने के बाद अगर लगातार शरीर में दर्द की शिकायत हो रही हो तो प्लेटलेट्स की जांच अवश्य करवाना चाहिए। वास्तव में प्लेटलेट्स कम होने के लक्षण भी इसी तरह के होते हैं। चक्कर आना और पूरे शरीर में दर्द होना प्लेटलेट्स कम होने की पहचान है। इसमें घबराने की कोई बात नहीं है, क्योंकि कुछ प्लेटलेट बढ़ाने के उपाय अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।


Platelets
Platelets



प्लेटलेट्स का गिरना क्या होता है - platelet count low in hindi


प्लेटलेट्स छोटी रक्त कोशिकाएं होती हैं, प्लेटलेट्स कम होने से खून में बीमारियों से लड़ने की छमता कम हो जाती है। एक स्वस्थ व्यक्ति में सामान्यता प्लेटलेटस काउंट नॉर्मल रेंज 150000 से 450000 प्रति माइक्रोलीटर होती है। जब यह संख्या 150 हजार प्रति माइक्रोलीटर से कम हो जाये तो इसे प्लेटलेटस गिरना माना जाता है। 


प्लेटलेट्स (platelets) की उम्र 3 से 5 दिन तक की होती हैं। शरीर में प्रतेक दिन हजारों प्लेटलेट्स (platelets) के बनने और टूटने की प्रक्रिया सामान्यतः चलती रहती हैं । प्लेटलेट की संख्या 1.5 लाख से कम हो जाने होने पर इसे प्लेटलेट्स (platelets) का गिरना या Thrombocytopenia कहा जाता हैं।


प्लेटलेट की संख्या - platelets count in hindi, 50 हजार से कम होने पर रोगी की मृत्यु होने का खतरा हो सकता हैं और ऐसे समय में रोगी को प्लेटलेट्स चढ़ाना - Platelet Transfusion अत्यंत आवश्यक हो जाता हैं। लेकिन देखने में आता है कि अगर प्लेटलेट्स (platelets) 15000 भी रह गई हों तो भी डॉक्टर प्लेटलेट्स चढ़ा कर रोगी की जान बचा लेते हैं लेकिन यदि इनकी संख्या 50000 के आसपास है तो घबराने की कोई बात नहीं है ।



यह भी पढ़े : गर्म पानी के फायदे और नुक़सान (garam pani ke fayde aur nuksan)



शरीर में प्लेटलेट्स कम होने के लक्षण - platelet low hone ke lakshan in hindi


जब कभी हमें कोई चोट लगती है तो रक्तस्त्राव होना शुरू हो जाता है । इस रक्तस्त्राव को रोकने का काम प्लेटलेट द्वारा किया जाता हैं। प्लेटलेट्स की संख्या अत्यधिक कम हो जाने पर रोगी को बाहरी या अंधरुनि रक्तस्त्राव प्रारंभ हो सकता है जैसे की नाक अथवा दांत से खून निकलना, पेशाब में खून आना, स्किन के निचे लाल धब्बे दिखाई देना आदि। ऐसे लक्षण दिखाई देने पर रोगी का तुरंत उपचार करना चाहिए ।


आहार से प्लेटलेट कैसे बढ़ाए - how to increase platelet count in blood by food


शरीर में घटी हुई प्लेटलेट्स (platelets) की संख्या में वृद्धि के लिए रोगी को निम्नलिखित आहार का सेवन करना चाहिए ।


1. पानी : 


हमारे शरीर में पानी का अत्यधिक महत्त्व है। शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी होना अत्यंत आवश्यक हैं। हर व्यक्ति की को प्रतिदिन 8 से 10 ग्लास पानी पीना चाहिए। डेंगू में शरीर में पानी की कमी होना आम बात हैं। पानी शरीर में प्लेटलेट्स के स्तर को बनाए रखने में सहायता करता है ।


2. पपीते के पत्ते से प्लेटलेट्स कैसे बढ़ाए - how to increase platelet count fast from papaya


विशेषज्ञों के अनुसार प्लेटलेट्स - plateslet in hindi, बढ़ाने में पपीता ही नहीं, अपितु उसकी पत्तियां भी सहायक हैं। विशेष रूप से डेंगू बुखार के कारण कम हुए प्लेटलेट्स को संतुलित करने में पपीता असरकारक होता है। प्लेटलेट्स संतुलित रखने के लिए प्रतिदिन नियमित रूप से पपीता खाना चाहिए। पपीते के पत्तों को पानी में उबालकर उसे ग्रीन टी के रूप में पिएं, अथवा पपीते के पत्ते का स्वरस बनाकर पीने से ज्यादा फायदा होता है।


पपीते के पत्ते का स्वरस अपनी क्षमतानुसार 10 से 20 मिली दिन में 2 से 3 बार लिया जा सकता हैं। अगर इसे पीने से उलटी होती है तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए। पपीते का फल जब भी खाए वह पका हुआ होना चाहिए।



यह भी पढ़े : कब्ज के रोग में इसबगोल का उपयोग कैसे करें (how to use isabgol for constipation in hindi)



3. बकरी का दूध से प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय - pletlets badhane ke upay


डेंगू बुखार में बकरी का दूध पीने से प्लेटलेट्स बहुत तेजी से बढ़ती हैं, जैसे ही मरीज बकरी के दूध का सेवन करता है तो प्लेटलेट्स तीव्र गति से बढ़ती हैं । कुछ इसी तरह ही चिकनगुनिया में भी होता है, कुछ दिन लगातार बुखार रहने के बाद हड्डियों में भयंकर दर्द होने लगता है । बकरी का दूध इस बीमारी में भी भरपूर फायदा करता है ।


 4. कीवी से प्लेटलेट्स बढ़ाए - increase platelet from kivi


कीवी एक ऐसा फल है, जिसे डॉक्टर भी डेंगू के बुखार में खाने की सलाह अक्सर देते हैं। ऐसे में इसकी मांग इन दिनों काफी बढ़ जाती है। कीवी डेंगू से छुटकारा दिलाने और प्लेटलेट्स की संख्या को अतिशीघ्र बढ़ाने में सहायता करता है। इसमें उपस्थित विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट्स, फाइबर, पोटैशियम  डेंगू  से आपको आराम दिलाता है।


कीवी फल में भरपूर मात्रा में विटामिन C, E और पोलीफेनोल होता हैं। प्रतिदिन एक कीवी सुबह और शाम खाने से प्लेटलेट की संख्या तीव्र गति से बढ़ना प्रारंभ होती हैं।


5.  गिलोय से प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय - increase platelet count from giloy


गिलोय का काढ़ा प्लेटलेट्स (platelets) बढ़ाने में बहुत महत्वपूर्ण रोल अदा करता है इसका सेवन करने का ढंग बहुत सरल है 6 से 10″ की गिलोय की बेल के तने का टुकड़ा तोड़ कर उसे लगभग अधा लीटर पानी में उबाले और उसमे 5-7 तुलसी के पत्ते थोडा सा अदरक और 3 कालीमिर्च डाल कर तब तक उबाले जब तक वो आधा न हो जाये उसके बाद उसे ठंडा कर के थोडा गुनगुना, रोगी को खली पेट पिलाने से आश्चर्य जनक फायदे मिलते हैं गिलोय का रस का सेवन करने के आधे घंटे तक कुछ भी ना खाएं ।





6. गेंहू का जवारा से प्लेटलेट्स बढ़ाने का उपाय


प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के लिए आप गेहू के घास का उपयोग भी कर सकते हैं। व्हीटग्रास यानि गेंहू का जवारा का उपयोग प्लेटलेट्स को बढ़ाने में काफी सहायक होता है। हर रोज सुबह खाली पेट ज्वारे का रस पीने से प्लेटलेट्स की संख्या में वृद्धि होती है । 
150 मिली स्वच्छ और ताजे गेहू के जवारे का जूस पिने से केवल प्लेटलेट ही नहीं बल्कि हीमोग्लोबिन, सफ़ेद रक्त कोशिकाएं और रोग प्रतिरोधी शक्ति बढ़ाने में भी सहायक होता हैं।


7. चुकंदर से प्लेटलेट्स बढ़ाने का तरीका- increase platelet count in hindi


प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए चुकंदर को अपने भोजन में शामिल करें। चाहे उसकी सब्जी बनाकर खाए या जूस पीयें। एंटी ऑक्सिडेंट से भरपूर चुकंदर में प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए सभी आवश्यक तत्व उपस्थित होते हैं। यह शरीर की रोग प्रतिरोढक क्षमता को भी मजबूत बनाता है। अधिक लाभ प्राप्त के लिए आधी चुकंदर के रस के साथ एक गिलास गाजर का रस में मिलाकर पिया जा सकता है।


चुकंदर में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते है और साथ में इसका उपयोग करने से हीमोग्लोबिन की मात्रा और प्लेटलेट की संख्या में वृद्धि होती हैं । इसका 10 मिली ताजा रस रोगी को दिन में 3 बार दे सकते हैं।


8. आंवला से प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय - platelet badhane ke upay


आंवले में उपस्थित विटामिन-सी प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि करता है। नियमित रूप से प्रतिदिन सुबह खाली पेट 3 से 4 आंवला का सेवन कर सकते हैं । आंवला अगर कच्चा न खा पा रहे हैं तो दो चम्मच आंवले के जूस में शहद मिलाकर पी सकते हैं ।


9. अनार से प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय - platelet badhane ke upay in hindi


अनार एक पौष्टिक फल हैं। इसमें आयरन प्रचुर मात्रा में होने से यह हीमोग्लोबिन और प्लेटलेट की मात्रा बढ़ाने में सहायता करता हैं। रोगी को अनार के दाने निकालकर भी खिलाये जा सकते हैं। इसे खाने से पेट में गैस भी नहीं बनती और रोगी के पाचन में भी सुधार होता हैं। अनार का जूस घर पर ही तैयार किया जाए तो उत्तम होगा।


यह भी पढ़े :  यह विटामिन्स बढ़ा सकते हैं इम्यूनिटी- Immunity in hindi


10. नारियल पानी से प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय - platelet in hindi


स्वास्थ्य के लिए नारियल - पानी का सेवन बहुत लाभदायक होता है, इसके सेवन से शरीर में ब्लड प्लेटलेट कि मात्रा में वृद्धि होती है, नारियल पानी में प्रचुर मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट्स तत्व पाये जाते है जो  ब्लड  प्लेटलेट्स की कमी को पूरा करने में सक्षम होते है ।


11. कद्दू से बढ़ती हैं प्लेटलेट्स की संख्या - platelet count in hindi


कद्दू में विटामिन 'K' की प्रचुर मात्रा होती हैं। प्लेटलेट्स की तरह विटामिन 'K' भी शरीर में रक्तस्त्राव होने पर रक्त को जमाने का काम करता हैं। रोगी को इसकी सब्जी बनाकर खिलाई जा सकती है, या रोगी को रोजाना 150 मिली कद्दू का ताजा रस एक चमच्च शहद मिलाकर पिलाया जा सकता हैं ।


12. पालक से बढ़ाए प्लेटलेट्स काउंट - platelet in hindi


5 से 6 पालक के पत्तों को पानी में डालकर थोड़ी देर उबाल लें, फिर इसे ठंडा होने के लिए थोड़ी देर छोड़ दें। फिर इसमें 2 टमाटर का घुटा हुआ रस मिला दें। इसका सेवन दिन में तीन बार करें। इसके अलावा पालक का सेवन सूप, सलाद, सब्‍जी के रूप में भी किया जा सकता हैं।


13. विटामिन 'C' का उपयोग - uses of vitamin ' C' in platelet count in hindi


प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के लिए शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन C मिलना भी अत्यंत आवश्यक होता हैं। शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी की पूर्ति के लिए आहार में निम्बू, टमाटर, आंवला, कीवी, संतरा, और पालक जैसे आहार शामिल कर सकते हैं।


 यह भी पढ़े :    गेंहू के जवारे के 5 फायदे - wheat grass in hindi


सावधानियां


  • प्लेटलेट्स (platelets) की संख्या कम होने पर पेट की अंदर की त्वचा लाल हो जाती है जिससे एसिडिटी तथा गैस की समस्या हो जाती हैं। ऐसे समय में रोगी को कच्चा, भारी, तीखा और मसालेदार नहीं देना चाहिए।


  • रोगी को चाय, कॉफी, शराब आदि का सेवन नहीं करना चाहिए और धूम्रपान से बचना चाहिए।


  • रोगी को एक साथ अधिक भोजन देने की जगह थोड़ा-थोड़ा आहार हर 20-30 मिनट के अंतराल में देते रहना चाहिए।


  • प्लेटलेट्स (platelets) कम होने पर बिना डॉक्टर की सलाह से कोई हेवी दवा लेने से नुकसान हो सकता हैं। बिना चिकित्सक की सलाह लिए रोगी को कोई भी दवा नहीं देना चाहिए।


  • प्लेटलेट्स (platelets)की संख्या बेहद कम होने पर ब्रश करते समय दांतों को जोर से नहीं रगड़ना चाहिए।


  • प्लेटलेट्स के रोगी को ठन्डे पानी से स्नान बिल्कुल भी नहीं करना चाहिये, थोडा गरम पानी ले कर स्नान कर सकते हैं । 


  • छोटी इलायची के बीज मुह में रख कर चूसते रहने से भी प्लेटलेट्स (platelets) की संख्या को नियंत्रित रख सकते हैं 


  • पौष्टिक आहार लेने से हमारा शरीर इस लायक हो जाता है कि वह बड़े से बड़े इंफेक्शन से लड़ सकता हैं। सकारात्मक विचार भी रोगी को जल्द ठीक होने के लिए आवश्यक हैं।


इस लेख में प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय का वर्णन किया गया है । ऊपर बताए घरेलू नुस्खों द्वारा गिरी हुई प्लेटलेट्स को काफी हद तक बढ़ाया जा सकता है, फिर भी अगर किसी व्यक्ति की प्लेटलेट्स 35 हजार से भी कम हो गई हों अथवा  जरूूूरत से ज्यादा कमजोरी महसूस हो तो उसे चिकित्सक की सलाह अवश्य लें लेनी चाहिए, यद्धपि साथ साथ बताए गए आहार का सेवन किया जाए तो लाभदायक हो सकता है ।



__________________________


संबंधित लेख:-