Friday, 5 April 2019

जीवन में स्वास्थ रहने के उपयोगी सूत्र ( Health tips in hindi)

सवस्थ जीवन के टिप्स(swasth jeevan ke tips)

अपने स्वास्थ्य को अच्छा रखने के लिए कुछ बाते ध्यान रखने की जरूरत है । इस लेख में हम आप को कुछ टिप्स (Health tips in hindi) देने जा रहे है । सबसे पहले खुद का ख्याल रखना आवश्यक है । यदि आप रोग-रहित और एक स्वस्थ जीवन चाहते है, और अपने बुढ़ापे का भरपूर आनंद लेना चाहते हैं तो अपनी दिनचर्या बदल लें।

किसी ने कहा है स्वास्थ्य ही धन है। हर व्यक्ति स्वस्थ और रोग रहित रह सकता है, यदि वह कुछ नियमों का पालन करें, जैसे की हमें सुबह जल्दी उठाना चाहिए, सुबह खाली पेट दो तीन गिलास पानी पीना चाहिए, खुली हवा में घुमने जाना चाहिए,  हल्का व्यायाम जरूर करना चाहिए, नाश्ते में दूध, फ्रूट, शामिल करें व कम वसायुक्त पदार्थों का सेवन करें । इसके साथ ही नीचे स्वास्थ संबंधी कुछ टिप्स नीचे दिए जा रहे हैं, जिनका पालन कर आप स्वस्थ जीवन पा सकते हैं ।


जीवन के कुछ महत्वपूर्ण स्वास्थ्य सूत्र(Jeevan ke swasthy sutra)


1. स्वस्थ व्यक्ति अपने जीवन में हमेशा प्रगति करने, दुखों से दूर, एवम् सुख प्राप्त करने में समर्थ होते हैं ।


2. स्वच्छ जीवन जीने बाल व्यक्ति लंबी उम्र वाला तथा प्रदूषण युक्त जीवन जीने वाला व्यक्ति काम उम्र होता है ।

Fitness, jivan ke sutra
Sharirik swasth


3. सुबह के समय जल्दी उठना, प्राणायाम व व्यायाम करना, ध्यान करना, प्रयाप्त पानी पीना, भूख से कम भोजन करना, भोजन पूरी तरह चबा कर करना स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभ दायक होता है ।


4. अपने खानपान को नियंत्रित करके पुरानी जीवनशैली से जन्मी बीमारियां जैसे - मोटापा, रक्तचाप, मधुमेह आदि को नियंत्रित किया जा सकता है ।


5. किसी भी खाने पीने की चीज को उचित मात्रा में ही लें, चाहे वह अन्न, तेल घी मसाले कुछ भी हो जरूरत से अधिक न ले, जिससे स्वास्थ्य सही बना रहता है ।


6. आंवले का जूस या आंवले के चूर्ण को अपने नियमित सेवन में शामिल करें। इससे कब्ज, बालों का झड़ना, बाल समय सफेद होना, एसिडिटी, नजर कमजोर होना आदि नहीं होते हैं ।


7. कुपोषण से होने वाले रोगों से बचने के लिए गेंहू, चना, ज्वर , बाजरा आदि अनाजों को मिला कर खाएं ।


8. बाजार में मिलने वाले डिब्बा बंद खाद्ध पदार्थ व कोल्ड्रिंक्स जैसी चीजों का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, इनका सेवन न करें ।


9. जितने तत्पर हम बीमार होने के बाद दवा लेने के लिए रहते हैं, उससे अधिक तत्परता हमें बीमार होने से पहले बीमारी से बचने के लिए लगना चाहिए


10. फास्ट फूड व जंक फूड का सेवा नहीं करना चाहि, इससे उच्च रक्त चाप, मोटापा, कब्ज, डायबिटीज, रोग होते है तथा रोगप्रतिरोधक छमता की कमी रहती है । इसके साथ शरीर में पोषक तत्वों की कमी भी हो जाती है ।


11. दूध, पत्ते दार सब्जियां, दाल, आदि का सेवन अधिक करना चाहिए, दूध से प्रोटीन व कैल्शियम, डाल से प्रोटीन, पत्तेदार सब्जियों से कल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, मेगनीज, लौह, आदि तत्व मिलते है । इसी तरह आलू से पोटैशियम, आओर सेव से एंटीऑक्सिडेंट की कमी दिए होती है ।


12. शुद्ध आहार लेना चाहिए, इससे व्यक्ति अपने कार्यों में सफल रहता है जबकी अशुद आहार लेने से व्यक्ति रोगी तथा असफल होता है । नाश नहीं करना है, इससे व्यक्ति का पतन होता है । नाश किसी भी तरह का इससे शारीरिक, मानसिक, आर्थिक, नैतिक, समजिक स्थर गिरता है ।


13. रोगी व्यक्ति की सामाजिक व आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं रहती, राष्ट्रीय की उन्नति में व्यक्ति की भागी दरी नहीं रहती है । और खुद की भी अवनति भी प्रारंभ हो जाती है ।

यह भी पढ़े: मासपेशियों में तनाव व दर्द दूर करने के देसी प्राकृतिक उपाय


12. वाहन के प्रति मोह कम कर उसका प्रयोग कम करने की आदत डालें। जहां तक ​​हो कम दूरी के लिए पैदल यात्रा पर जाएं। इससे मांसपेशियों का व्यायाम होगा, जिससे आप निरोगी रहकर आकर्षक बने रहेंगे, साथ ही पर्यावरण की रक्षा में भी सहायक होंगे।

13. भोजन में अधिक से अधिक मात्रा में फल-सब्जियों का प्रयोग करें। उन्हें आवश्यक तैलीय तत्व प्राप्त करें, शरीर के लिए आवश्यक तेल की पूर्ति प्राकृतिक रूप के पदार्थों से ही प्राप्त करें।

14. दिमाग में सुस्ती नहीं आने दें, कार्य को तत्परता से करने की चाहत रखें।

15. घर के कार्यों को स्वयं करें- यह कार्य कई व्यायाम का फल देते हैं ।

शारीरिक स्वास्थ्य
स्वस्थ रहने के लिए क्या खाएं

आदमी के जीवन में सबसे महत्वपूर्ण है उसका स्वस्थ रहना । आदमी कितना स्वस्थ रह सकता है। उचित खान-पान, सही मन स्थिति, शांत, निश्चित रहकर आदमी का मन ही उसे पूर्ण स्वस्थ रहने के लिए प्रेरित करते हैं । फिर खाना-पीना थोड़ा अनियमित हो जाए तो चल सकता है । सोच सही होनी चाहिए किसी ने कहा है कि गलत खान-पान से ज्यादा महत्वपूर्ण है सोच का सकारात्मक होना । अगर वह नकारात्मक हुआ तो सब डर से दूर होकर व्यक्ति दैनिक चिन्तन से मुक्त हों जाएगा।  जीवनशैली अच्छी हो तो मन एवम् स्वास्थ्य आपके बस में हो जाएगा। इन Hindi me health tips को ध्यान में रखकर स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है ।



________________________________________________

No comments: